विश्व बाल दिवस पर सर्वत्र नीला (गो ब्लू)

यूनिसेफ और बाल-अधिकारों के समर्थन में भारत नीले रंग में रंग गया है

विनीता मिश्रा एवं स्टेफनी रायसन
एक बच्चा अपने हाथों से नीले रंग से पेंट करता हुआ
UNICEF/UN0368267/Soni
20 नवंबर 2020

विश्व बाल दिवस पर सर्वत्र नीला (गोइंग ब्लू) यूनिसेफ के बाल-अधिकारों के लिए खड़े होने के संकल्प का प्रतीक है | चूँकि इस वर्ष बड़ी संख्या में बच्चे कोविड - 19 महामारी से प्रभावित हुए हैं, इसलिए कोई समारोह नहीं किया जा रहा है, बस प्रत्येक बच्चे के लिए एक बेहतर दुनिया की पुनर्कल्पना का संकल्प लिया जा रहा है |

The parliament buildings are lit blue
UNICEF/UN0369486/Altaf Qadri
The Rashtrapati Bhavan (Presidential Palace), Prime Minister’s Office (North and South Block), the Parliament House Go Blue in solidarity for child rights, highlighting the impact of COVID-19 on children’s lives.
A stepwell is turned blue with lights
UNICEF/UN0369687/Panjwani
The Rani-ki-Vav, a UNESCO World Heritage site goes blue as part of UNICEF’s #GoBlue for children global campaign on World Children’s Day.

Many would instantly recognize the Rani ki Vav, (The Queen’s Stepwell), an 11th century architectural wonder that features on the new lavender colored 100 Rupees note issued by the Reserve Bank of India. 

The Qutub Minar tower turns blue by lights
UNICEF/UN0369623/Vishwanathan
Qutub Minar, New Delhi

The iconic Qutub Minar, the world's tallest brick minaret, stands tall and turned blue in support of reimaging a better and brighter world for children.  

The Mumbai station is lit blue with lights at night
UNICEF/UN0369539/Singh
CST, Mumbai turns blue again this year.

Chhatrapati Shivaji Terminus, also known by its former name Victoria Terminus, is a historic terminal train station and UNESCO World Heritage Site in Mumbai, Maharashtra. It is one of the many iconic monuments which is going blue on the occasion of World Children’s Day to uphold the rights of every child. 

A bridge spanning across water has blue lights along it
UNICEF/UN0369774/Bhaduri
Howrah Bridge, Kolkata, West Bengal

Howrah Bridge, also known as Rabindra Setu, is a cantilever bridge that connects the twin cities of Kolkata and Howrah. This significant landmark in West Bengal was illuminated blue on World Children’s day in support of the children and their reimagined future post the COVID –19 pandemic. 

नीली रोशनी में जगमग एक ईमारत
UNICEF Madhya Pradesh
बाल अधिकार सम्मलेन के महत्त्व और विश्व बाल दिवस के उपलक्ष्य में नीली रोशनी से जगमग मध्य प्रदेश के मांडू में जहाज़ महल

विश्व बाल दिवस पर मध्य प्रदेश के ऐतिहासिक स्थलों और इमारतों को नीली रोशनी से जगमग कर भारत के दिल से बाल अधिकारों के प्रति समर्पण की पुनः पुष्टि की गई

एक लड़की दीवार पर नीले रंग से पेंट करते हुए |
UNICEF/UN0368268/Soni

धार और झाबुआ, मध्य प्रदेश के गाँव नीले रंग में रंग गए |

धार एवं झाबुआ जिले के छोटे-छोटे गाँव टीकाकरण, नवजात देखभाल, जलवायु परिवर्तन और बाल अधिकारों के संदेशों के साथ | जहाँ अनेकों शहरी इमारतों में नीली रोशनी रही, मध्य प्रदेश के धार और झाबुआ जिलों के आदिवासी गाँव नीले रंग में रंग दिए गए | पूरे गाँव में बच्चों और युवाओं ने टीकाकरण, नवजात देखभाल, जलवायु परिवर्तन और बाल अधिकारों के संदेशों के साथ दीवारों को नीले रंग में रंग दिया |

The building is lit blue with lights from outside
UNICEF/UN0369449/Boro
Gandhi Mandap, Guwahati

Assam turns blue from the Gandhi Mandap atop a hill in the middle of the State Capital. Children from Assam also presented the Chief Minister with a manifesto, while student Vandana Urang took over the Chief Minister's Twitter handle for the day. 

The outside of a Sufi site is lit blue with lights
UNICEF Bihar
Khanqah Munemia Qamaria, a prominent Sufi site of great historic importance in Patna, Bihar

Khanqah Munemia Qamaria, along with Mulla Meetan’s Maszid, goes blue in Patna with the support of Professor Syed Shah Shamimuddin Ahmad Munemia. The Professor passionately advocates for fulfilling the rights of every child as `religious duty’. 

झारखण्ड विधान सभा नीले रंग की रोशनी से रंग गई |
UNICEF Jharkhand

झारखण्ड विधान सभा पूरी तरह नीले रंग की |

प्रतिष्ठित विधान सभा को नीले रंग की रोशनी से जगमग कर झारखंड के विधान सभा अध्यक्ष ने बाल अधिकारों की रक्षा के प्रति अपना समर्पण व्यक्त किया है | ये झारखण्ड के बच्चों की सुरक्षा, देखभाल और समर्थन के लोगों के सामान्य कर्तव्य को स्मरण कराने के लिए है | सर्वत्र नीला (गोइंग ब्लू) संयुक्त राष्ट्र द्वारा बाल-अधिकार सम्मलेन को अपनाने की वर्षगांठ के रूप में मनाया जाता है |

राजनिवास के बाहरी हिस्से में नीले रंग की रोशनी की गई है |
यूनिसेफ़ झारखण्ड
राजनिवास के बाहरी हिस्से में नीले रंग की रोशनी की गई है |

विश्व बाल दिवस, मनोरंजन के साथ गंभीर सन्देश का दिन है | इस दिन सभी बच्चों को प्रोत्साहित किया जाता है कि वे अपने से सम्बंधित मुद्दों, जैसे शिक्षा, खेलने और पढ़ने के सुरक्षित स्थान और सकारात्मक वातावरण आदि पर अपनी आवाज़ उठाएं |

इस दिन यूनिसेफ के लिए सर्वत्र नीला (गोइंग ब्लू) अपनाकर मुझे उम्मीद है कि हम बच्चों के लिए बेहतर भविष्य निर्माण करेंगे और जागरूकता फैलाएंगे | हम यूनिसेफ और चाइल्ड रिपोर्टर्स के साथ हर वर्ष बाल दिवस मनाते रहे हैं जो कि अपने अधिकारों के लिए कार्रवाई कर के सभी के सामने एक उदहारण प्रस्तुत कर रहे हैं | 

झारखंड की माननीय राज्यपाल महोदया, द्रौपदी मुर्मू
Some lights are hanging on the outside of the building
UNICEF Jharkhand
Speaker Aawas or Speaker's House in Ranchi, Jharkhand

I hope that the blue lights will raise awareness about the rights and needs of children in Jharkhand. The need and right of every child to be in school, safe from harm so that they can reach their full potential. 

Rabindra Nath Mahato, Speaker of the Jharkhand Legislative Assembly
यूनिसेफ इंडिया के दिल्ली ऑफिस का बाहरी हिस्सा नीली रोशनी से जगमग
UNICEF India
दिल्ली स्थित यूनिसेफ इंडिया का राष्ट्रीय कार्यालय नीली रोशनी से जगमग

कोविड - 19 महामारी के समय यूनिसेफ इंडिया का राष्ट्रीय कार्यालय और हमारे क्षेत्रीय कार्यालय बंद नहीं हुए | सुरक्षा के कड़े मानदंडों के साथ हम लगातार कार्य कर रहे हैं | ऑफिस के बहुत से लोग अभी भी घरों से काम कर रहे हैं| ऑफिस में सर्वत्र नीली रोशनी कर और फोटो शेयर करने से सभी को ऑफिस का वर्चुअल भ्रमण का मौका मिलेगा जहाँ हम रोज़ जाते थे |