कोविड-19 के खिलाफ चल रही लड़ाई में फ्रंटलाइन कर्मियों तथा अतिसंवेदनशील समुदाय की सहायता हेतु हिंदुस्तान यूनिलिवर ने यूनिसेफ़ के माध्यम से 1 करोड़ से भी अधिक साबुन प्रदान किए हैं

18 राज्यों में स्थानीय साझेदारी के माध्यम से यूनिसेफ़ कोविड मरीजों, फ्रंटलाइन कर्मियों, स्कूली बच्चों, आदिवासी परिवारों तथा देशभर के अन्य अतिसंवेदनशील समूहों की मदद हेतु पहुंचा ।

24 मार्च 2021
Young children practice safe handwashing at an aanganwadi centre in Raghunathpur, Kujang, Jagatsinghpur, Odisha
UNICEF/2020/Soumi Das

08 मार्च 2021 - हिंदुस्तान यूनिलिवर लिमिटेड (एचयूएल) ने, यूनिसेफ के साथ अपनी दीर्घकालीन वैश्विक साझेदारी के साथ ही, देश की कोविड के खिलाफ चल रही लड़ाई में सहायता हेतु 1 करोड़ से अधिक साबुन और हैंड सेनिटायज़र उपलब्ध कराए। यह सहायता आदिवासी क्षेत्र, बाढ़ प्रभावित क्षेत्र, कोविड प्रभावित गाँव, और अन्य में झुग्गियों, दूरस्थ चाय बागान सहित 18 राज्यों में की गई ।

स्वच्छता  उत्पादों की उपलब्धता सुनिश्चित करना, हाथ धोने को एक आदत बनाने की ओर पहला कदम है, विशेष रूप से तब जब देश अभी भी प्रतिदिन कोविड संक्रमण के नए मामलों से जूझ रहा है। सब के लिए स्वच्छता का लक्ष्य ध्यान में  रखते हुए ,एच यू एल और यूनिसेफ, महामारी का मुक़ाबला करने में मदद हेतु दूरस्थ क्षेत्रों तक पहुंचे हैं ।

इस अभियान के बारे में अपने विचार व्यक्त करते हुए हिंदुस्तान यूनिलिवर लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक संजीव मेहता ने कहा, “हम कोरोना वायरस को उद्गम पर ही रोकने के लिए हाथों की स्वच्छता की शक्ति में दृढ़ विश्वास करते हैं। यूनिसेफ को योगदान देकर हम  सरकारों और गैर सरकारी संगठनों को कोविड-19 के सामुदायिक संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए उनके द्वारा किए जा रहे  प्रयासों में सहायता कर सके, और आगे भी हमारे उत्पाद देशभर में समुदायों को सुरक्षा प्रदान करते रहेंगे। इस कठिन समय में कोई छूट न जाए, यह सुनिश्चित करने के लिए हमारी आपूर्ति शृंखला ने व्यापक रूप से कार्य किया है।”

भारत में यूनिसेफ की प्रतिनिधि , डॉक्टर यास्मिन अली हक़ ने कहा, “कोविड -19 को मात देने के लिए हमें हर किसी को हाथ धोने की सुविधा उपलब्ध कराना होगा। हमें  हाथ धोने की आदत विकसित करनी होगी, जिसके लिए - अंतर्राष्ट्रीय साझेदारों, राष्ट्रीय सरकारों, सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र और सिविल सोसायटी सबको मिलकर काम करना होगा। कोविड-19 हॉटस्पॉट स्थित अतिसंवेदनशील और हाशिए पर रह रहे लोगों को सहायता करने के लिए एच यू एल ने जो महत्वपूर्ण योगदान दिया है, उसके लिए हम उनके आभारी हैं।"

मार्च 2020 में एच यू एल ने कोविड-19 महामारी से लड़ने में भारत की मदद हेतु रू.100 करोड़ का योगदान देने का संकल्प लिया है। अप्रैल में यूनिसेफ और एच यू एल ने मिलकर कोविड – 19 से लड़ाई के लिए '#BreakTheChain #VirusKiKadiTodo' नामक एक जनसंचार अभियान चलाया। इस अभियान में रोचक संचार साधन के निर्माण हेतु एच यू एल की विपणन विशेषज्ञता और पहुँच तथा यूनिसेफ के तकनीकी ज्ञान को साथ लाया गया, जिसने लोगों को अपने व्यवहार में परिवर्तन लाकर महामारी में सुरक्षित रहने के लिए प्रोत्साहित किया।

एच यू एल ने आज तक समुदायों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, उन्हें जरूरी समान की उपलब्धता और व्यवसाय को जारी रखना सुनिश्चित करके ग्राहकों को ज़रुरत के समय आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने हेतु विभिन्न पहल की हैं । इन पहल में व्यापक जागरूकता अभियान, कोविड-19 के फ्रंटलाइन कर्मियों तथा समाज के वंचित वर्ग को स्वास्थ्य रक्षा और स्वच्छता उत्पादों का नि:शुल्क वितरण शामिल है। एच यू एल अस्पतालों और परीक्षण  केन्द्रों में स्वास्थ्य रक्षा सुविधाओं में और अधिक सुधार तथा कोविड-19 के फैलाव को रोकने के लिए स्थानीय प्राधिकारियों की सहायता हेतु अलगाव केंद्र (आइसोलेशन सेण्टर) स्थापित करने के लिए प्रतिबध्द है।

---समाप्त ---

 

 

मीडिया संपर्क

Alka Gupta
Communication Specialist
UNICEF
टेल: +91-730 325 9183
ईमेल: agupta@unicef.org
Sonia Sarkar
Communication Officer (Media)
UNICEF
टेल: +91-981 01 70289
ईमेल: ssarkar@unicef.org

मल्टिमीडिया कोंटेंट

About UNICEF

UNICEF promotes the rights and wellbeing of every child, in everything we do. Together with our partners, we work in 190 countries and territories to translate that commitment into practical action, focusing special effort on reaching the most vulnerable and excluded children, to the benefit of all children, everywhere.

UNICEF India relies on the support and donations from businesses and individuals to sustain and expand health, nutrition, water and sanitation, education and child protection programmes for all girls and boys in India. Support us today to help every child survive and thrive! 

For more information on UNICEF India and its work visit https://www.unicef.org/india/. Follow us on TwitterFacebookInstagramGoogle+ and LinkedIn